Connect with us

Tech

Firing revealed in Mandavari 13 days after Gehlot minister Parsadi Lal Meena threat – गहलोत के मंत्री की धमकी के 13 दिन बाद फायरिंग का खुलासा, परसादी लाल ने दौसा SP से कहा था

Published

on


ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के दौसा जिले के मंडावरी थाना क्षेत्र में 30 अक्टूबर की रात घर के सदस्यों को हथियार की नोक पर बंधक बनाकर सोने चांदी के जेवरात व लाखों रुपए की लूट कर भागते समय ग्रामीणों पर फायरिंग करने के मामले में पुलिस ने मध्य प्रदेश के 5 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। बता दें, 3 नवंबर को स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीना ने एसपी-कलेक्टर के सामने पुलिस को घेरा था। कहा- थानों में पोस्टिंग के लायक नहीं, गश्त छोड़ हाईवे पर वसूली करते हैं। मंत्री की फटकार के बाद ऐक्शन में आए दौसा के एसपी संजीव नैन ने मंडावरी में डकैती और फायरिंग की घटना का खुलासा कर दिया। 

मध्यप्रदेश के गिरोह ने दिया वारदात को अंजाम

एसपी संजीव नैन बताया कि मध्यप्रदेश के श्योपुर जिले के थाना मानपुर निवासी सागर मोगिया पुत्र ओम प्रकाश, मोहन सिंह मोगिया पुत्र राधेश्याम , आकाश मोगिया पुत्र प्रेमपाल व वीरपाल मोगिया पुत्र सुरेंद्र तथा थाना कोतवाली निवासी सोनू सहरिया पुत्र रामनरेश  को गिरफ्तार किया है। इनमें से सागर और मोहन सिंह बगराना कच्ची बस्ती थाना कानोता क्षेत्र में रहते हैं। डकैती और फायरिंग के संबंध में 30 अक्टूबर को वार्ड नंबर 5 निवासी परिवादी धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने एक रिपोर्ट थाना मण्डावरी में दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में बताया गया कि देर रात एक और दो बजे के बीच 6-7 अज्ञात बदमाश उनके घर में घुस गए और बंदूक की नोक पर बंधक बनाकर करीब सवा 2 लाख रुपये नगद, सोने चांदी के जेवरात लूटकर भाग गए। विरोध करने पर जाते समय आसपास की तीन ढाणियों के ग्रामीणों पर फायरिंग की, जिससे 4 लोग घायल हो गए। रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई।

गैंग के सक्रिय 5 बदमाशों को गिरफ्तार

आईजी रेंज उमेश चंद्र दत्ता द्वारा घटना को गंभीरता से लिया गया। आरोपियों की गिरफ्तारी व घटना के खुलासे के लिए एसपी नैन ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक लालचंद कायल के नेतृत्व में सीओ संतराम व अरविंद गोयल, एसआई अजीत सिंह, दिनेश कुमार, थानाधिकारी रामपाल मीणा एवं डीएसटी से चुनिंदा पुलिसकर्मियों की विशेष टीम गठित कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। गठित टीम ने मुखबिर सूचना एवं तकनीकी अनुसंधान से आसूचना संकलन कर जगह-जगह दबिश देकर गैंग के सक्रिय 5 बदमाशों को गिरफ्तार किया है।

विभिन्न वारदात में आरोपी बदलते रहते हैं

एसपी नैन ने बताया कि इनके गिरोह में 15 से 20 सदस्य हैं। विभिन्न वारदात में आरोपी बदलते रहते हैं। इस गिरोह ने दौसा के थाना महवा व कोलवा व आसपास के जिलों एवं अन्य राज्यों में दर्जनों वारदाते की है। 1-2 सदस्य रेकी कर टारगेट चिन्हित करते हैं। उसके बाद गैंग के 8-10 सदस्य 4-5 मोटरसाइकिल पर वारदात स्थल से चार-पांच किलोमीटर पहले गाड़ी खड़ी कर पैदल पैदल चिन्हित घरों में घुसकर हथियार की नोक पर वारदात करते हैं। विरोध करने पर पहले धमकाते हैं, ज्यादा विरोध पर फायरिंग करने से नहीं चूकते।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

Shraddha Murder Case: कल तिहाड़ जेल में होगा आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट, कैसे है ये नार्को से अलग?

Published

on

By



फोरेंसिक मनोविज्ञान विभाग (FSL) की टीम और अंबेडकर अस्पताल की टीम ने मिलकर आफताब का नार्को टेस्ट पूरा किया है। अब कल यानी 2 दिसंबर को आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट होगा।

Continue Reading

Tech

PAK vs ENG : इंग्लैंड से पिटाई के बाद अब पिच को लेकर सवालों के घेरे में पाकिस्तान, फैंस ने रमीज राजा से मांगा इस्तीफा

Published

on

By



ऐतिहासिक पाकिस्तान-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज गुरुवार (1 दिसंबर) को इंग्लैंड के पिंडी क्रिकेट स्टेडियम में शुरू हुई। लेकिन रावलपिंडी की सपाट पिच देखकर फैंस के साथ-साथ दिग्गज भी निराश नजर आ रहे हैं।

Continue Reading

Tech

कैसे औरंगजेब की कैद से निकल गए थे छत्रपति शिवाजी? हाथ मलता रह गया था मुगल बादशाह

Published

on

By



मुगल बादशाह औरंगजेब ने शिवाजी को धोखे से आगरा किले में कैद करवा लिया था। हालांकि शिवाजी और उनके भाई संभाजी वहां से भाग निकले और औरंगजेब हाथ मलता रह गया।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya