Connect with us

Tech

Google doodle on childrens day is the winning entry by shlok mukherjee from kolkata – Tech news hindi

Published

on


बाल दिवस के मौके पर सर्च इंजन गूगल अपने होमपेज पर टाइटल की जगह खास डूडल दिखा रहा है। ऐसे डूडल अलग-अलग त्योहारों के मौके पर दिखते हैं, जिन्हें कंपनी की क्रिएटिव टीम डिजाइन करती है लेकिन आज गूगल होम पर दिख रहा डूडल कोलकाता में रहने वाले नन्हे श्लोक ने बनाया है। श्लोक ‘डूडल फॉर गूगल’ प्रतियोगिता के विजेता चुने गए हैं और बाल दिवस पर उन्हें खास पुरस्कार मिला है।

गूगल हर साल Doodle for Google प्रतियोगिता का आयोजन करती है, जिसमें नन्हे बच्चों को अपनी कलाकारी, रचनात्मकता, कल्पना और प्रतिभा दिखाने का मौका मिलता है। Doodle for Google 2022 में देशभर के 1,15,000 बच्चों ने हिस्सा लिया था, जिनमें से बेस्ट एंट्रीज का चुनाव करते हुए उनके लिए ऑनलाइन वोटिंग करवाई गई थी। विजेता के तौर पर कोलकाता के स्टूडेंट श्लोक मुखर्जी की एंट्री को सबसे ज्यादा वोट मिले।

गूगल मैप को पता है कि कब-कहां जा रहे हैं आप, फौरन डिलीट करें सर्च हिस्ट्री और लोकेशन टाइमलाइन

खास विषय पर बनाना था गूगल डूडल

सर्च इंजन कंपनी ने इस साल गूगल डूडल बनाने के लिए कक्षा 1 से लेकर 10 तक के स्टूडेंट्स को मौका दिया था। इस साल प्रतियोगिता का विषय, “अगले 25 साल में मेरा भारत कैसा होगा?” रखा गया था। बच्चों ने डूडल में दिखाया था कि वे 25 साल बाद कैसे भारत की कल्पना करते हैं और क्या बदलाव देखना चाहते हैं। श्लोक ने अपनी पेटिंग में विज्ञान और प्रकृति के बीच संतुलन दिखाया और योग-आर्युवेद को भी इसमें शामिल किया।

श्लोक के डूडल में क्या दिखाया गया है?

अपने डूडल को श्लोक ने ‘केंद्रीय मंच पर भारत’ (India on the cenyter stage) टाइटल दिया है। श्लोक ने लिखा, “अगले 24 साल में, मेरे भारत के वैज्ञानिक मानवता के विकास के लिए खुद का इको-फ्रेंडली रोबोट बनाएंगे। भारत पृथ्वी से अंतरिक्ष के बीच यात्राएं करेगा। भारत योग और आयुर्वेद के क्षेत्र में विकसित होगा और आने वाले वर्षों में और भी मजबूत होता जाएगा।” बता दें, श्लोक कोलकाता के न्यू टाउन स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में पढ़ रहे हैं।

गूगल प्ले स्टोर पर ही मौजूद था बड़ा खतरा! अपने फोन से फौरन डिलीट करें ये 4 मोबाइल ऐप्स

चार ग्रुप्स में ये बच्चे बने प्रतियोगिता के विजेता

ग्रुप 1-2 में विशाखापत्तनम की कनाकला श्रीनिका, ग्रुप 5-6 में गुरुग्राम की दिव्यांशी सिंघल, ग्रुप 7-8 में रांची की पिहू कच्छप और ग्रुप 9-10 में विशाखापत्तनम की ही पुप्पला इंदिरा जाह्नवी को विजेता चुना गया है। विजेताओं का चुनाव खास जजेस पैनल और 552,000 पब्लिक वोट्स के जरिए किया गया। श्लोक का डूडल ग्रुप 3-4 में बेस्ट चुना गया है और गूगल इंडिया की VP मार्केटिंग सपना चड्ढा ने सभी विजेताओं और प्रतिभागियों को बधाई दी है। 

विजेताओं को मिलते हैं खास पुरस्कार

डूडल फॉर गूगल प्रतियोगिता में विजेता चुने गए स्टूडेंट्स को टेक कंपनी की ओर से 30,000 डॉलर (करीब 24 लाख रुपये) की स्कॉलरशिप मिलती है। इसके अलावा उन्हें उनके डूडल आर्ट वाली टीशर्ट, एक गूगल क्रोमबुक और डिजिटल डिजाइन टैबलेट दिया जाता है, जिससे वे आगे भी अपनी क्रिएटिविटी बनाए रख सकें। 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

Chinese 100 Police Stations World Reason Xi Jinping – International news in Hindi

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

Chinese Police Stations: भारत, अमेरिका समेत दुनियाभर के ज्यादातर देश चीन की चालाकी से अच्छी तरह वाकिफ हैं। हाल ही में एक रिपोर्ट से चीन को लेकर अहम खुलासा हुआ है। दरअसल, चीन ने शातिराना चाल चलते हुए दुनियाभर में 100 से ज्यादा अपने पुलिस स्टेशन खोल दिए हैं। इस दौरान किसी को भी ड्रैगन के चाल की कानों-कान खबर तक नहीं लगी। सीएनएन की रिपोर्ट में चीन द्वारा खोले गए इन पुलिस स्टेशनों के पीछे की वजह के बारे में भी बताया गया है। दावा किया गया है कि इसके जरिए चीन विदेशों में रहने वाले चीनी नागरिकों की निगरानी रखना चाहता है। इसके साथ ही इन पुलिस स्टेशनों का काम वहां रह रहे चीनी नागरिकों को परेशान करना और वापस लाना भी है। मैड्रिड स्थित मानवाधिकार कैंपेनर सेफगार्ड डिफेंडर्स ने सितंबर में पुलिस स्टेशनों को लेकर खुलासा किया था।

“पैट्रोल एंड पर्सुएड” नामक रिपोर्ट में आगे कहा गया था कि चीन ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापक उपस्थिति हासिल करने के लिए कुछ यूरोपीय और अफ्रीकी देशों के साथ द्विपक्षीय सुरक्षा व्यवस्था की है। समूह की रिपोर्ट बताती है कि चीन और कई यूरोपीय देशों के बीच संयुक्त पुलिस पहल की भूमिका ने चीनी विदेशी स्टेशनों के प्रसार में मदद की है। ये स्टेशन इटली, क्रोएशिया, सर्बिया और रोमानिया में भी हैं। समूह ने दावा किया है कि पेरिस में अंडरकवर काम कर रहे गुर्गों ने एक चीनी नागरिक को घर लौटने के लिए मजबूर किया। इससे पहले दो अन्य चीनी निर्वासितों को भी सर्बिया और स्पेन से स्वदेश लौटने के लिए मजबूर किया गया था।

चीन का जवाब- बढ़ा-चढ़ाकर पेश करना बंद करें

सेफगार्ड डिफेंडर्स का कहना है कि उसने कम-से-कम 53 देशों में सक्रिय चीन के सार्वजनिक सुरक्षा मंत्रालय के चार अलग-अलग पुलिस न्यायालयों की पहचान की है। ये स्टेशन चीन के उन हिस्सों से प्रवासियों की जरूरतों को पूरा करते हैं। हालांकि, बीजिंग ने विदेश में ऐसे पुलिस स्टेशन चलाए जाने की सभी खबरों को खारिज किया है। चीन ने पिछले महीने सीएनएन से कहा, “हम आशा करते हैं कि संबंधित पक्ष तनाव पैदा करने के लिए इसे बढ़ा-चढ़ाकर पेश करना बंद करें। चीन को बदनाम करने के बहाने इसका इस्तेमाल करना अस्वीकार्य है।” चीन का दावा है कि ये केंद्र प्रशासनिक हब हैं, जिन्हें चीनी प्रवासियों को दस्तावेज़ीकरण को नवीनीकृत करने में मदद करने का काम सौंपा गया है।” 

कोविड से पहले के हैं कई पुलिस स्टेशंस

चीन ने यह भी कहा कि ये सेंटर कोविड-19 महामारी के बाद दूसरे देशों में फंसे नागरिकों की मदद के लिए खोले गए थे। हालांकि, रिपोर्ट के अनुसार, ये सेंटर कई वर्षों से महामारी से पहले के हैं। सेफगार्ड डिफेंडर्स के आरोपों का जवाब देते हुए चीन ने कहा था कि ये सेंटर वॉलेंटियर्स द्वारा संचालित हैं। हालांकि, समूह की रिपोर्ट कहती है कि इसके एक पुलिस नेटवर्क ने अपने पहले 21 स्टेशनों के लिए 135 लोगों को काम पर रखा था। इन पुलिस स्टेशनों को लेकर रिपोर्ट आने के बाद कम-से-कम 13 अलग-अलग देशों में जांच शुरू की गई है। चीन और कनाडा जैसे देशों के बीच तनाव भी बढ़ गया है।

Continue Reading

Tech

वीरेंद्र सहवाग की राह पर चल पड़ा बेटा आर्यवीर भी, दिल्ली U-16 स्क्वॉड में शामिल

Published

on

By



वीरेंद्र सहवाग का बेटा आर्यवीर सहवाग अंडर-16 विजय मर्चेन्ट ट्रॉफी के लिए दिल्ली की अंडर-16 स्क्वॉड का हिस्सा बन गया है, हालांकि आर्यवीर को बिहार के खिलाफ मैच में प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली।

Continue Reading

Tech

Good news for gamers Amazon Prime Gaming is going to be launched soon in India – Tech news hindi

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

अगर आप ऑनलाइन गेम खेलने के शौकीन हैं तो यह खबर आपके लिए है। ग्लोबल ई–कॉमर्स कंपनी अमेजन इंडिया जल्द इंडिया में प्राइम गेमिंग की शुरुआत करने जा रही है। अमेजन इंडिया, भारत में अपने अमेजन प्राइम और वीडियो प्लांट के मेंबर्स से प्राइम गेमिंग के लिए अलग से कोई चार्ज नहीं करेगा। इससे पहले अमेजन ने 2020 में भी इस गेमिंग सर्विस को इंडिया में लॉन्च किया था लेकिन तब यह अमेजन की प्राइम मेंबरशिप का एक पार्ट था। रिपोर्ट के मुताबिक इस बार अमेजन, इंडिया में अपनी प्राइम गेमिंग को फुल–फ्लेज्ड तरीके से लॉन्च करने वाली है। 

यह भी पढ़ें-iPhone के बाद अब iPad की बारी! Apple कर रही चाइना से बोरिया–बिस्तर समेटने की तैयारी

प्राइम गेमिंग के फॉर्मल लॉन्चिंग से पहले टेस्टिंग में जुटा अमेजन

इंडिया में प्राइम गेमिंग के लॉन्चिंग के बाद आप फ्री में पीसी गेम्स और इसके एक्सक्लूसिव कंटेंट का बिना कोई एक्स्ट्रा चार्ज दिए मजा उठा सकते हैं। गेमिंग इंडस्ट्री से जुड़ी खबरें शेयर करने वाले ऋषि अलवानी ने डिटेल्स शेयर करते हुए कहा है कि अमेजन इंडिया ने अपनी वेबसाइट पर प्राइम गेमिंग नाम से एक स्पेशल पेज बनाया है। लेकिन अभी आप इस पेज पर क्लिक करते हैं तो यहां एरर दिखाता है। इसका मतलब अमेजन इसके फॉर्मल लॉन्च से पहले इसकी टेस्टिंग कर रहा है।

यह भी पढ़ें-50MP कैमरा और 6000mAH बैटरी वाला फोन खरीदने को हो जाएं तैयार, कल हो रहा लॉन्च

अमेजन की प्राइम गेमिंग में ले सकेंगे यूएस जैसा एक्सपीरियंस

यूएस में, अमेजन की प्राइम गेमिंग इस महीने आठ गेम ऑफर कर रहा है। अमेजन की इस प्राइम गेमिंग में क्वेक, द अमेजिंग अमेरिकन सर्कस, रोज रिडल 2, वेयरवोल्फ शैडो और बहुत कुछ शामिल हैं। उम्मीद की जा रही है कि प्राइम गेमिंग का इंडियन वर्जन भी लगभग इसी तरह का सिमिलर एक्सपीरियंस देगा। हालांकि, अमेजन इंडिया ने प्राइम गेमिंग की इंडिया में लॉन्चिंग के बारे में अभी तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की है।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya