Connect with us

Tech

Gurjar Aksartan Sangharsh Samiti President Vijay Bainsla warn to opposition Rahul Gandhi visit Bharat Jodo in Rajasthan

Published

on


ऐप पर पढ़ें

गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष विजय बैंसला ने राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार को चेतावनी दी है। उन्होंने सरकार को चेताते हुए कहा है कि यदि विशेष पिछड़ा वर्ग (एमबीसी) की लंबित मुद्दों को नहीं सुलझाया गया तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का राजस्थान में विरोध किया जाएगा। बैंसला ने संवाददाताओं से कहा कि एमबीसी के लंबित मुद्दों पर अब तक कोई काम नहीं हुआ, ना तो इस संबंध में कोई समीक्षा की गई है। अत: समिति ने फैसला किया है कि लंबित मुद्दों को नहीं सुलझाने पर राहुल गांधी की यात्रा का राजस्थान में पुरजोर तरीके से विरोध किया जाएगा।

विजय बैंसला (MBC Arakshan Sangharsh Samiti, President, Vijay Bainsla) ने राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि हमारी मांगे पूरी कर दो, नहीं तो राहुल गांधी की यात्रा को राजस्थान के बाहर से गुजारना पड़ेगा। राजस्थान में विशेष पिछड़ा वर्ग (एमबीसी) के 75 विधानसभा क्षेत्रों में लोग हैं। यदि लंबित मुद्दों को नहीं सुलझाया गया तो इन 75 विधानसभा क्षेत्रों में इस यात्रा का विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हर बार पटरी उखाड़ना जरूरी नहीं है। हमें लगता है कि सरकार की मंशा ठीक नहीं है। वादे बहुत हुए हमें नतीजे चाहिए।

विजय सिंह बैंसला ने कहा कि यदि सरकार ने गुर्जर आरक्षण के समझौते को लागू नहीं किया तो राजस्थान में कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा नहीं होगी। कांग्रेस की सरकार ने गुर्जर आरक्षण के मसले पर कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के साथ समझौते किए थे। अभी तक उन समझौतों को लागू नहीं किया गया। हमारे बच्चों को नौकरियां नहीं हैं। मैं सरकार के सामने अनेक बार समझौतों को लागू कराने की बातें रख चुका हूं, लेकिन सरकार इस पर साइन करने के बाद भूल गई है। ऐसे में क्या हम उनकी आरती उतारें। हम सरकार से मनुहार करते करते थक चुके हैं। 

विजय सिंह बैंसला ने कहा कि अब तक हम शांत थे। अब या तो हमारे बच्चों को आरक्षण दो अन्यथा भारत जोड़ो यात्रा राजस्थान में नहीं होने देंगे। राहुल गांधी किसी भी रास्ते से आएं यदि मांगें नहीं मानी गई तो विरोध होगा। सरकार की उदासीनता का आलम यह है कि अब तक उसने इस मसले पर बैठक तक नहीं की है। हमारी सरकार को चेतावनी है कि हमारी लंबित मांगों को पूरा करो। यदि ऐसा नहीं किया तो राजस्थान में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को निकालकर दिखा लेना। हमने पहले भी रास्ते रोके थे, दोबारा ऐसा करेंगे।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

अब हम अच्छा फील कर रहे हैं, आप लोगों ने दुआ की; किडनी ट्रांसप्लांट के बाद लालू का वीडियो

Published

on

By



राजद प्रमुख लालू यादव की बेटी मीसा भारती ने वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है कि आप सब की दुआओं ने ही पापा का मनोबल बढ़ाया, उन्हें बेहतर महसूस करवाया! आज पापा ने आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद कहा है!

Continue Reading

Tech

how mayor is elected in delhi mcd polls – MCD चुनाव के बाद मेयर कैसे चुने जाते हैं? कौन है रेस में सबसे आगे? जानें

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

दिल्ली एमसीडी चुनाव में उम्मीदवारों की किस्मत EVM में कैद हो चुकी है। 7 दिसंबर को चुनाव के नतीजे आएंगे। वहीं कल शाम से जारी कई एग्जिट पोल के मुताबिक, दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से एमसीडी की कुर्सी 15 सालों बाद आम आदमी पार्टी (AAP) छीन सकती है। एमसीडी चुनाव के नतीजे आने से पहले ही लोगों ने यह चर्चा शुरू कर दी है कि दिल्ली का नया मेयर कौन होगा। क्या आप को पता है कि मेयर का चुनाव कैसे होता है? मेयर का कार्यकाल कितने समय के लिए होता है? आइए समझते हैं…

5 नहीं सिर्फ 1 साल के लिए होता मेयर है मेयर का कार्यकाल

एमसीडी चुनाव जीते पार्षदों का कार्यकाल 5 सालों के लिए होता है लेकिन मेयर सिर्फ 1 साल के लिए चुने जाते हैं। दिल्ली एमसीडी में कुल 250 वार्ड हैं। इन वार्डों से चुनाव जीते पार्षद ही मेयर का चुनाव करते हैं। दिल्ली की जनता सीधे तौर पर मेयर नहीं चुन सकती। जनता पार्षदों को चुनती है और पार्षद दिल्ली एमसीडी के मेयर को।

पहले साल में चुनी जाएगी महिला मेयर

एमसीडी की सरकार का कार्यकाल 5 साल का होता है। इन 5 सालों में पहले साल किसी महिला पार्षद को ही मेयर बनाया जा सकता है। ये एक तरह का रिजर्वेशन है। मालूम हो कि तीसरे साल किसी अनुसूचित जाति का पार्षद मेयर बनाया जाएगा। यानी पहले और तीसरे साल के लिए मेयर के चुनाव में रिजर्वेशन है।

नतीजे के बाद साफ होगी तस्वीर

एमसीडी चुनाव के नतीजे 7 दिसंबर को आएंगे। एमसीडी के चुनाव 4 दिसंबर को हुए थे। दिल्ली के कुल 50.48% वोटरों ने वोटिंग की थी। एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी की शानदार जीत दिख रही है। राजनीतिक पंडितों का यह अनुमान है कि AAP निर्मला देवी को मेयर बना सकती है। सनद रहे कि दिल्ली नगर निगम एक्ट के अनुसार, पहले साल में मेयर किसी महिला को ही बनाया जाएगा। निर्मला देवी AAP के महिला इकाई की प्रदेश संयोजक हैं। इसके अलावा AAP नेता शालिनी सिंह भी मेयर बनाई जा सकती हैं। तस्वीर नतीजे आने के बाद और साफ हो सकेगी।

Continue Reading

Tech

एक दिन 'महंगाई-महंगाई' चिल्लाएंगे, राहुल गांधी के सामने 'मोदी-मोदी' नारे पर कन्हैया

Published

on

By



कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार ने महंगाई और बेरोजगारी को लेकर केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा और कहा कि 'मोदी-मोदी' का नारा लगाने वाले 'महंगाई-महंगाई चिल्लाएंगे।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya