Connect with us

Business

hdfc and hdfc bank twins up 6 percent talks merged entity in MSCI index detail is here – Business News India

Published

on


ऐप पर पढ़ें

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन यानी शुक्रवार को हाउसिंग लोन देने वाली HDFC और प्राइवेट सेक्टर के HDFC बैंक लिमिटेड के शेयर में बंपर उछाल आया। बीएसई इंडेक्स पर HDFC लिमिटेड का शेयर 5.87% बढ़कर 2652 रुपये पर पहुंच गया, जबकि HDFC बैंक के शेयर का भाव 5.5% बढ़कर 1610 रुपये हो गया। इस तेजी की क्या वजह है, आइए इसके बारे में भी जान लेते हैं।

क्या है वजह: मीडिया रिपोर्ट्स में MSCI इंडेक्स मर्जर और एक्जीविशन से संबंधित नियमोंमें बदलाव होने की खबरें आई हैं। नियमों में बदलाव से इंडेक्स में विलय की गई इकाई को जल्दी शामिल किया जा सकता है। बता दें कि सितंबर तिमाही के अंत तक एचडीएफसी के पास विदेशी निवेशक की 67.76 प्रतिशत हिस्सेदारी थी जबकि एचडीएफसी बैंक के पास 32.15 प्रतिशत विदेशी शेयरधारिता थी। 

शेयरों में आई थी गिरावट: अप्रैल में एचडीएफसी लिमिटेड के एचडीएफसी बैंक के साथ विलय की घोषणा के बाद, दोनों कंपनियों के शेयरों में गिरावट आई थी। दरअसल, निवेशकों को चिंता थी कि इन कंपनियों को MSCI इंडेक्स से बाहर रखा जा सकता है। 

ये पढ़ें-आर्थिक मोर्चे पर मूडीज का झटका, GDP अनुमान पर फिर चलाई कैंची!

बीते 17 जून को एचडीएफसी लगभग ₹2700 से गिरकर ₹2026 के 52-सप्ताह के निचले स्तर पर आ गया था। वहीं, एचडीएफसी बैंक ₹1600 से गिरकर ₹1271.6 के 52-सप्ताह के निचले स्तर पर आ गया। विलय के अप्रैल-मई 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है।



Source link

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Business

Relief for PhonePe Google Pay as NPCI extends UPI market cap deadline to 31 dec 2024 detail here – Business News India

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने फोनपे, गूगलपे समेत कई अन्य यूपीआई सुविधा देने वाली इकाइयों को राहत दी है। इसके तहत तीसरे पक्ष वाली ऐप प्रदाता इकाइयों (टीपीएपी) के लिये डिजिटल भुगतान लेन-देन में 30 प्रतिशत की लिमिट को हासिल करने की समयसीमा दो साल बढ़ाकर दिसंबर, 2024 कर दी गयी है।

इस फैसले का सबसे बड़ा फायदा गूगल पे और वॉलमार्ट के फोनपे को मिलने की उम्मीद है। इन दोनों कंपनियों की यूपीआई आधारित लेन-देन में बड़ी हिस्सेदारी है। एनपीसीआई ने नवंबर, 2020 में थर्ड पार्टी के लिये यूपीआई के जरिये होने वाले लेन-देन का केवल तीस प्रतिशत ही प्रबंधित करने की घोषणा की थी।

यह सीमा एक जनवरी, 2021 से प्रभाव में आनी थी। हालांकि, पांच नवंबर 2020 को अधिक हिस्सेदारी रखने वाले टीपीएपी को चरणबद्ध तरीके से सीमा हासिल करने के लिये दो साल का समय दिया गया।



Source link

Continue Reading

Business

लगातार तीसरे हफ्ते विदेशी मुद्रा भंडार में उछाल, 550 अरब डॉलर को किया पार

Published

on

By



केंद्रीय बैंक ने कहा कि कुल मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा माने जाने वाली विदेशी मुद्रा आस्तियां (एफसीए) 25 नवंबर को समाप्त सप्ताह में तीन अरब डॉलर बढ़कर 484.28 अरब डॉलर हो गईं।



Source link

Continue Reading

Business

बंद हुआ इस कंपनी का IPO, शेयर बाजार में ₹600 के पार लिस्टिंग की उम्मीद

Published

on

By



यूनिपार्ट्स इंडिया इंजीनियर्ड सिस्टम्स और सॉल्यूशंस की ग्लोबल मैन्युफैक्चरर है। इसकी 25 से अधिक देशों में उपस्थिति है। एक्सिस कैपिटल, डीएएम कैपिटल एडवाइजर्स और जेएम फाइनेंशियल आईपीओ के मैनेजर थे।



Source link

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya