Connect with us

Tech

Iran Revolutionary Guards says several Mossad French intelligence agents arrested during protests – International news in Hindi – ईरान में बवाल के पीछे फ्रांस और इजराइल का हाथ? इस्लामिक देश बोला

Published

on


ऐप पर पढ़ें

हिजाब विरोधी प्रदर्शनों के बीच ईरान ने दावा किया है कि उसने कई फ्रांसीसी खुफिया एजेंटों को गिरफ्तार किया है। इस्लामिक देश के आंतरिक मंत्री अहमद वाहिदी ने बुधवार को सरकारी टीवी चैनल को बताया कि कई फ्रांसीसी खुफिया एजेंटों को ईरान में विरोध प्रदर्शन के संबंध में गिरफ्तार किया गया है। यही नहीं, इस्लामिक देश ईरान ने ‘पश्चिमी दुश्मनों’ पर राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शनों को भड़काने का आरोप लगाया है।

ईरानी पुलिस की हिरासत में 16 सितंबर को 22 वर्षीय महसा अमीनी की मौत के बाद ईरान में देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए। महिलाओं के लिए ईरान में सख्त ड्रेस कोड का कथित रूप से उल्लंघन करने पर अमीनी को हिरासत में लिया गया था। ईरानी मंत्री ने कहा है कि दंगों में अन्य देशों के लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि इनमें से कुछ लोगों ने दंगों में बड़ी भूमिका निभाई थी। उन्होंने कहा, “इसके (दंगों के) पीछे फ्रांसीसी खुफिया एजेंसी के एजेंट थे और उनसे कानून के मुताबिक निपटा जाएगा।”

बता दें कि शुरुआत में विरोध प्रदर्शन ईरान में हिजाब पहनने की अनिवार्यता पर केंद्रित थे, लेकिन बाद में प्रदर्शनों का सिलसिला बढ़ता गया और ये 1979 की इस्लामी क्रांति के बाद सत्तारूढ़ शासकों के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक में बदल गए हैं। पिछले हफ्ते फ्रांस की विदेश मंत्री कैथरीन कोलोना ने कहा था कि ईरान में कुल सात फ्रांसीसी नागरिकों को हिरासत में लिया गया है।

ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने मोसाद से जुड़े शख्स को पकड़ा

ईरान की अर्ध-सरकारी समाचार एजेंसी फार्स ने बताया कि ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने बुधवार को इजराइल के एक एजेंट को पकड़ा है। रिपोर्टों के मुताबिक, ईरानी रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने दावा किया है कि उन्होंने एक ऐसे व्यक्ति को गिरफ्तार किया है, जो इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद से जुड़ा हुआ है।

रेवोल्यूशनरी गार्ड्स के बयान में कहा गया है कि कथित जासूस को दक्षिण-पूर्वी प्रांत केरमन से पकड़ा गया है। हालांकि ईरानी पुलिस ने गिरफ्तारी का समय और न ही पकड़े गए शख्स की नागरिकता का खुलासा किया है। इजराइल के प्रधानमंत्री कार्यालय से टिप्पणी के अनुरोध का तत्काल कोई जवाब नहीं था।

ईरान ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी को मौत की सजा सुनाई: रिपोर्ट

हाल ही में ईरान की रिवोल्यूशनरी अदालत ने देश में लगातार जारी अशांति के बीच एक सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी को मृत्युदंड और पांच अन्य लोगों को कारावास की सजा सुनाई है। सरकारी मीडिया ने रविवार को यह जानकारी दी। देश में पिछले कुछ हफ्तों से जारी सरकार विरोधी प्रदर्शनों में भाग लेने के लिए गिरफ्तार लोगों के खिलाफ जारी मुकदमों में संभवत: पहली बार मौत की सजा दी गई है।

ईरान की न्यायपालिका से संबंधित समाचार वेबसाइट मिजान ने बताया कि प्रदर्शनकारी को एक सरकारी भवन में आग लगाने के मामले में मौत की सजा सुनाई गई तथा पांच अन्य लोगों को राष्ट्रीय सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के उल्लंघन के आरोप में पांच से 10 साल की सजा दी गई।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

Shraddha Murder Case: कल तिहाड़ जेल में होगा आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट, कैसे है ये नार्को से अलग?

Published

on

By



फोरेंसिक मनोविज्ञान विभाग (FSL) की टीम और अंबेडकर अस्पताल की टीम ने मिलकर आफताब का नार्को टेस्ट पूरा किया है। अब कल यानी 2 दिसंबर को आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट होगा।

Continue Reading

Tech

PAK vs ENG : इंग्लैंड से पिटाई के बाद अब पिच को लेकर सवालों के घेरे में पाकिस्तान, फैंस ने रमीज राजा से मांगा इस्तीफा

Published

on

By



ऐतिहासिक पाकिस्तान-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज गुरुवार (1 दिसंबर) को इंग्लैंड के पिंडी क्रिकेट स्टेडियम में शुरू हुई। लेकिन रावलपिंडी की सपाट पिच देखकर फैंस के साथ-साथ दिग्गज भी निराश नजर आ रहे हैं।

Continue Reading

Tech

कैसे औरंगजेब की कैद से निकल गए थे छत्रपति शिवाजी? हाथ मलता रह गया था मुगल बादशाह

Published

on

By



मुगल बादशाह औरंगजेब ने शिवाजी को धोखे से आगरा किले में कैद करवा लिया था। हालांकि शिवाजी और उनके भाई संभाजी वहां से भाग निकले और औरंगजेब हाथ मलता रह गया।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya