Connect with us

Tech

shraddha murder case delhi remind tandoor kand nithari kand like murders

Published

on


ऐप पर पढ़ें

Shraddha Murder Case: दिल्ली में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। 26 साल के युवक ने अपनी गर्लफ्रेंड को 35 टुकड़ों में काट डाला। इसके बाद शरीर के टुकड़ों को उसने दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में फेंक दिया। आफताब अमीन पूनावाला और श्रद्धा की लव स्टोरी अचानक से क्राइम स्टोरी में तब्दील हो गई। इसके साथ ही कुछ पुराने मर्डर केसेज याद आ गए, जिन्होंने हर किसी को बेचैन कर दिया। आइए एक नजर डालते हैं कुछ पुराने क्राइम केसेज पर…

तंदूर कांड

दो जुलाई, 1995 में नैना साहनी को उसके पति सुशील शर्मा ने मार डाला। सुशील शर्मा कांग्रेस का युवा नेता और दिल्ली में विधायक था। सुशील को नैना के मतलूब खान से रिश्तों पर ऐतराज था। मतलूब और नैना एक-दूसरे को स्कूल के दिनों से जानते थे। घटना के दिन सुशील ने नैना को मतलूब से फोन पर बात करते हुए देख लिया था। वह गुस्से से भर उठा और नैना को गोली मार दी। इसके बाद वह नैना की बॉडी लेकर एक रेस्टोरेंट में गया और वहां के मैनेजर के साथ मिलकर बॉडी ठिकाने लगाने की सोची। बॉडी को राख में तब्दील करने के मकसद से तंदूर में रख दिया गया। बाद में पुलिस ने रेस्टोरेंट मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया, लेकिन शर्मा भागने में कामयाब रहा। बाद में उसने आत्मसमर्पण कर दिया। 

बेलारानी दत्ता मर्डर केस

बात 31 जनवरी, 1954 की है। कोलकाता में एक स्वीपर ने टॉयलेट के पास अखबार में लिपटा पैकेट देखा। उसने अखबार पर खून के छींटे देखे और इंसानी अंगुली भी देखी। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी। घटना का जो खुलासा हुआ, उससे हर कोई हैरान रह गया। बीरेन नाम के एक युवक का बेलारानी और मीरा नाम की महिलाओं से संबंध था। वह दोहरी जिंदगी जी रहा था। मिलने में देरी होती तो दोनों महिलाएं उससे सवाल पूछती थीं और बीरेन परेशान हो जाता था। इसी बीच बेलारानी ने बीरेन को बताया कि वह प्रेग्नेंट है। इसके बाद बीरेन ने उसे मार डाला और उसके शरीर को टुकड़ों में काट डाला। इसके बाद उसने उस घर की आलमारी में शरीर के टुकड़ों को रख दिया और दो दिन तक सोता रहा। बाद में उसने बेलारानी के शरीर के टुकड़ों को शहर के अलग-अलग हिस्सों में फेंक दिया। मामले में दोषी पाए जाने पर बीरेन को फांसी की सजा मिली थी।

आरुषि मर्डर

यह मामला 13 साल की छात्रा आरुषि तलवार की हत्या का है। 15 मई, 2008 को आरुषि का शव उसके नोएडा स्थित घर के कमरे में पाया गया। उसका गला कटा हुआ था। शुरुआत में इस मामले में शक 45 साल के नौकर हेमराज पर गहराया जो उस तलवार के घर में नौकर था। लेकिन घटना में सनसनीखेज मोड़ तब आया जब दो दिन के बाद हेमराज का शव भी घर की छत पर मिला। आरुषि मर्डर केस में जांच के रवैये पर यूपी पुलिस की काफी आलोचना हुई और बाद में जांच सीबीआई को सौंपी गई। मामले में आरुषि के माता-पिता डॉक्टर राजेश तलवार और डॉक्टर नूपुर तलवार से पूछताछ की गई। उन्हें मुख्य अभियुक्त माना गया। नवंबर 2013 में दोनों को आजीवन कैद की सजा सुनाई गई। हालांकि बाद में 2017 में उन्हें छोड़ दिया गया। 

निठारी कांड

एक ऐसा ही केस था निठारी मर्डर कांड। यह सीरियल मर्डर केस अंजाम दिया गया था व्यापारी मोनिंदर सिंह पंढेर के नोएडा स्थित सेक्टर-31 स्थित घर में। यूपी के निठारी गांव के नजदीक स्थित इस घर में 2005 से 2006 के बीच इन हत्याओं को अंजाम दिया गया था। यह मामला तब उजागर हुआ जब निठारी गांव से एक लड़का, लड़की और एक किशोर गायब हो गए। पता चला कि इन बच्चों का यौन शोषण होता था और इसके बाद मर्डर किया गया। मोनिंदर को उसके खिलाफ पांच में से दो केसेज और उसके नौकर सुरिंदर कोली को 16 में से 10 केसेज में दोषी पाया गया। दोनों को मौत की सजा सुनाई गई। कोली ने स्वीकार किया कि उसने नौ लड़कियों, दो लड़कों और पांच महिलाओं को बहला-फुसलाकर घर में बुलाया था। इसके बाद कोली ने उनकी हत्या कर दी और मृत शरीर के साथ सेक्स की कोशिश की। बाद में शवों के टुकड़े कर डाले। कुछ हिस्सों को खाया और बाकी को बंगले के पीछे नाली में डाल दिया। 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

IND vs BAN : बांग्लादेश पहुंचते ही विराट कोहली ने शुरू की तगड़ी ट्रेनिंग, बल्लेबाजी प्रैक्टिस करने के बाद फुटबॉल खेलते नजर आए

Published

on

By



भारतीय टीम के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली ने बांग्लादेश के खिलाफ रविवार से शुरू हो रही वनडे सीरीज के लिए तैयारी शुरू कर दी है। कोहली ने इंस्टाग्राम पर अपने ट्रेनिंग की कुछ तस्वीरें शेयर की है।

Continue Reading

Tech

जेल में शतरंज खेल कर समय बिता रहा आफताब, चीनी चापड़ से भी काटा था श्रद्धा का शव

Published

on

By



Shraddha Murder Case: आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जब फोरेंसिक टीम शुक्रवार को तिहाड़ पहुंची तब आफताब शतरंज खेल रहा था। आफताब इन दिनों तिहाड़ की जेल संख्या चार में खाली समय शतरंज खेलकर बिता रहा है।

Continue Reading

Tech

182 seats 31 rallies and three big roadshows PM Narendra Modi s election campaign in Gujarat

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

Gujarat Assembly Election 2022: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए शुक्रवार को अपने प्रचार के समापन के साथ 31 से अधिक रैलियों को संबोधित किया और तीन बड़े रोड शो का नेतृत्व किया। राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा का मुकाबला कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (AAP) से है। शुक्रवार प्रचार का आखिरी दिन था। राज्य की 93 सीट के लिए दूसरे और अंतिम चरण का मतदान पांच दिसंबर को निर्धारित है। वहीं, 89 सीट के लिए पहले चरण का मतदान एक दिसंबर को हुआ था।

पीएम मोदी के जनसंपर्क का एक प्रमुख आकर्षण गुरुवार को अहमदाबाद में उनका रोड शो था, जिसे भाजपा के सूत्रों ने देश में ‘सबसे लंबा और सबसे बड़ा” बताया। उन्होंने दावा किया कि यह लगभग 50 किलोमीटर का रोड शो था और शहर की 13 विधानसभा सीट और गांधीनगर की एक विधानसभा सीट से होकर गुजरा। भाजपा के एक नेता ने दावा किया, ‘जनता का उत्साह और स्नेह स्पष्ट था क्योंकि इस दूरी को पार करने में लगभग चार घंटे लग गए। प्रतिक्रिया हमारी अपेक्षाओं से परे थी और हमारा मानना है कि 10 लाख से अधिक लोग इसमें शामिल हुए।’

पहले चरण में 89 सीटों पर मतदान

गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सौराष्ट्र-कच्छ के 19 जिलों और राज्य के दक्षिणी क्षेत्रों की 89 सीटों पर 63.31 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को अंतिम आंकड़े जारी करते हुए यह जानकारी दी। आंकड़ों के मुताबिक, 2017 के विधानसभा चुनाव में, पहले चरण में इन्हीं 89 निर्वाचन क्षेत्रों में 66.75 प्रतिशत मतदान हुआ था। पहले चरण के लिए गुरुवार को मतदान हुआ और इसके साथ ही 788 उम्मीदवारों की किस्मत इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) में बंद हो गई है। 

सातवीं बार सत्ता में बने रहने की कोशिश

वर्ष 2017 के चुनाव में, इन 89 सीटों में से, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 48, कांग्रेस ने 40, जबकि एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत हासिल की थी। राज्य में 27 साल तक शासन करने वाली भाजपा लगातार सातवीं बार सत्ता में बने रहने की कोशिश कर रही है। यदि यह सफल होता है, तो यह 2011 तक लगातार सात बार पश्चिम बंगाल चुनाव जीतने वाली वाम मोर्चा सरकार के रिकॉर्ड की बराबरी कर लेगी।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya