Connect with us

Tech

Tejashwi yadav will ask for votes for Uddhav Thackeray Shiv Sena in BMC Priyanka Chaturvedi said what is problem if support – BMC में उद्धव ठाकरे की शिवसेना के लिए वोट मांगेंगे तेजस्वी, प्रियंका चतुर्वेदी बोलीं

Published

on


शिवसेना (उद्धव) पार्टी के नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे का एक दिवसीय बिहार दौरा अब काफी सुर्खियां बटोर रहा है। बुधवार को पटना पहुंचे आदित्य ठाकरे ने पहले तो बिहार के डिप्टी  सीएम तेजस्वी यादव से मुलाकात की। फिर उसके बाद तेजस्वी के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मिलने जा पहुंचे। अब तेजस्वी को आदित्य ठाकरे की पार्टी ने महाराष्ट्र आने का न्योता दिया है।

आदित्य ठाकरे की पार्टी शिवसेना (उद्धव गुट) की सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने गुरुवार को कहा है कि यदि तेजस्व यादव मुंबई आते हैं तो हम भी उनका ठीक उसी तरह से स्वागत करेंगे जैसा कि हमारा पटना में हुआ था। प्रियंका ने तेजस्वी को निमंत्रण देते हुए कहा कि हमारे साथ महाराष्ट्र का दौरा कीजिये। महाराष्ट्र और बिहार का संबंध सालों से रहा है। उन्होंने कहा कि तेजस्वी का यदि महाराष्ट्र आगमन होता है और सपोर्ट रहा तो इसमें कोई दिक्कत नहीं है। 

आदित्य ठाकरे की नीतीश-तेजस्वी से मुलाकात तो बहाना है, असल में BMC चुनाव में उत्तर भारतीयों को रिझाना है

वहीं आदित्य ठाकरे और तेजस्वी यादव के बीच हुई मुलाकात को लेकर सांसद ने कहा कि दोनों युवा नेता हैं और यूथ का नेतृत्व करते हैं। दोनों युवा नेताओं की यह पहली मुलाकात थी। बातचीत तो दोनों के बीच होती ही रहती थी। प्रियंका ने आगे बताया कि आदित्य और तेजस्वी के बीच संविधान और लोकतंत्र की लड़ाई कैसे लड़ी जाए, इसे लेकर बातचीत हुई। प्रियंका ने यह भी कहा कि इन दोनों नेताओं के बीच हुई मुलाकात को बीएमसी चुनाव से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। कोविड महामारी के कारण बहुत समय से इनकी मुलाकात नहीं हो पाई थी। 

वहीं दूसरी ओर राजनीतिक जानकार बताते हैं कि आदित्य ने नीतीश-तेजस्वी से मुलाकात ऐसे समय की है, जब शिवसेना दो गुटों में बंट चुकी है और बीएमसी चुनाव सिर पर हैं। ऐसे में बीएमसी पर अपने सियासी वर्चस्व को बनाए रखने के लिए शिवसेना (उद्धव गुट) के लिए चुनौती खड़ी हो गई है। बीएमसी में उत्तर भारतीय वोटों की सियासी ताकत को देखते हुए आदित्य ठाकरे मुंबई से पटना पहुंचे और उन्हें नीतीश और तेजस्वी से मिलकर राजनीतिक समीकरण को मजबूत करने की कवायद की है।

क्या रंग लाएगी आदित्य ठाकरे की नीतीश-तेजस्वी से मुलाकात ? 2024 में मजबूत होगा विपक्ष का मोर्चा ?

गौरतलब है कि बीएमसी पर तीन दशक से शिवसेना (उद्धव गुट) का कब्जा है, लेकिन एकनाथ शिंदे के बगावत के बाद शिवसेना दो धड़ों में बट चुकी है। ऐसे में उद्धव ठाकरे हरहाल में बीएमसी की सत्ता को बचाए रखना चाहते हैं, जबकि बीजेपी किसी भी सूरत में मुंबई पर राज करना चाहती है। ऐसे में आदित्य ठाकरे बीएमसी चुनाव से पहले सियासी समीकरण दुरुस्त करने में जुट गए हैं, जिसके लिए उनकी नजर उत्तर भारतीय वोटों पर है। बीएमसी के 227 वार्ड में 50 वार्ड में बिहार-यूपी के वोटर निर्णायक वोटर साबित होते हैं, जबकि 40 और वार्ड में भी इनकी संख्या मजबूत है।

आदित्य ठाकरे ने पटना पहुंचते ही सबको चौंकाया, मिलने तेजस्वी से आए थे, पहुंच नीतीश के पास गए

मुंबई में 40 लाख से भी ज्यादा आबादी उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों की है, जो बीएमसी चुनाव में किसी भी दल का खेल बनाने और बिगाड़ने की ताकत रखते हैं। अटकलों की मानें तो उत्तर भारतीय वोटों के सियासी आधार को देखते हुए आदित्य ठाकरे को मुंबई से नीतीश-तेजस्वी से मिलने पटना आना पड़ा। 

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

Shraddha Murder Case: कल तिहाड़ जेल में होगा आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट, कैसे है ये नार्को से अलग?

Published

on

By



फोरेंसिक मनोविज्ञान विभाग (FSL) की टीम और अंबेडकर अस्पताल की टीम ने मिलकर आफताब का नार्को टेस्ट पूरा किया है। अब कल यानी 2 दिसंबर को आफताब का पोस्ट नार्को टेस्ट होगा।

Continue Reading

Tech

PAK vs ENG : इंग्लैंड से पिटाई के बाद अब पिच को लेकर सवालों के घेरे में पाकिस्तान, फैंस ने रमीज राजा से मांगा इस्तीफा

Published

on

By



ऐतिहासिक पाकिस्तान-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज गुरुवार (1 दिसंबर) को इंग्लैंड के पिंडी क्रिकेट स्टेडियम में शुरू हुई। लेकिन रावलपिंडी की सपाट पिच देखकर फैंस के साथ-साथ दिग्गज भी निराश नजर आ रहे हैं।

Continue Reading

Tech

कैसे औरंगजेब की कैद से निकल गए थे छत्रपति शिवाजी? हाथ मलता रह गया था मुगल बादशाह

Published

on

By



मुगल बादशाह औरंगजेब ने शिवाजी को धोखे से आगरा किले में कैद करवा लिया था। हालांकि शिवाजी और उनके भाई संभाजी वहां से भाग निकले और औरंगजेब हाथ मलता रह गया।

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya