Connect with us

Tech

Will Pat Cummins stop Cameron Green from playing IPL 2023 Know the captain answer

Published

on


ऐप पर पढ़ें

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान पैट कमिंस चाहते है कि कैमरून ग्रीन राष्ट्रीय टीम के लिए खेलने में अपनी सारी ऊर्जा लगाएं, लेकिन वह इस युवा हरफनमौला को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में खेलने से नहीं रोकेंगे। इस 23 साल के खिलाड़ी को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट के भविष्य के तौर पर देखा जा रहा है। उन्होंने भारत दौरे पर डेविड वॉर्नर की अनुपस्थिति में पारी की शुरुआत करते हुए प्रभावित किया था। ग्रीन ने इस दौरे पर दो अर्धशतक जड़े थे और 214.54 के स्ट्राइक रेट तथा 39.22 के औसत के साथ रन बनाये थे। 

क्या कश्मीर में हैं और भी उमरान मलिक? वसीम बशीर की रफ्तार उड़ा देगी होश- Video

सहजता से बड़े शॉट खेलने की क्षमता के कारण ग्रीन अगर आईपीएल की आगामी नीलामी में शामिल होने का मन बनाते है तो वह कई फ्रेंचाइजी टीमों की नजर में होंगे। कमिंस ने ‘एसईएन रेडियो’ से कहा,”हाँ, वह इस दौड़ (आईपीएल नीलामी में शामिल होना) में शामिल हो सकता है। हम इंतजार करेंगे और देखेंगे, मुझे लगता है कि नीलामी में अभी थोड़ा समय है।”

ऋषभ पंत को लेकर पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने कर दी बड़ी भविष्यवाणी, कहा ‘वह अगले 10 साल में…’

उन्होंने कहा, ”एक कप्तान के रूप में स्वार्थी होकर देखे तो मुझे अच्छा लगेगा कि वह ऑस्ट्रेलिया के लिए अपनी सारी ऊर्जा बचाएं। लेकिन आप किसी को इस (आईपीएल) तरह के अवसर को नकारने के लिए कैसे कह सकते हैं?”

ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट और वनडे टीम की कप्तानी करने वाले कमिंस ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के व्यस्त कार्यक्रम को देखते हुए इस आकर्षक लीग से हटने का फैसला किया है।

‘…भले ही पैर टूट जाए’, शाहीन को ये सलाह देने पर शोएब अख्तर पर भड़के शाहिद अफरीदी

ऑस्ट्रेलिया के व्यस्त 2023 टेस्ट क्रिकेट कार्यक्रम में भारत में बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी (फरवरी-मार्च) और इंग्लैंड में 16 जून से 31 जुलाई तक एशेज शामिल है। एकदिवसीय विश्व कप अगले साल अक्टूबर-नवंबर में भारत में आयोजित किया जाएगा। आईपीएल की नीलामी 23 दिसंबर को कोच्चि में होनी है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tech

how mayor is elected in delhi mcd polls – MCD चुनाव के बाद मेयर कैसे चुने जाते हैं? कौन है रेस में सबसे आगे? जानें

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

दिल्ली एमसीडी चुनाव में उम्मीदवारों की किस्मत EVM में कैद हो चुकी है। 7 दिसंबर को चुनाव के नतीजे आएंगे। वहीं कल शाम से जारी कई एग्जिट पोल के मुताबिक, दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से एमसीडी की कुर्सी 15 सालों बाद आम आदमी पार्टी (AAP) छीन सकती है। एमसीडी चुनाव के नतीजे आने से पहले ही लोगों ने यह चर्चा शुरू कर दी है कि दिल्ली का नया मेयर कौन होगा। क्या आप को पता है कि मेयर का चुनाव कैसे होता है? मेयर का कार्यकाल कितने समय के लिए होता है? आइए समझते हैं…

5 नहीं सिर्फ 1 साल के लिए होता मेयर है मेयर का कार्यकाल

एमसीडी चुनाव जीते पार्षदों का कार्यकाल 5 सालों के लिए होता है लेकिन मेयर सिर्फ 1 साल के लिए चुने जाते हैं। दिल्ली एमसीडी में कुल 250 वार्ड हैं। इन वार्डों से चुनाव जीते पार्षद ही मेयर का चुनाव करते हैं। दिल्ली की जनता सीधे तौर पर मेयर नहीं चुन सकती। जनता पार्षदों को चुनती है और पार्षद दिल्ली एमसीडी के मेयर को।

पहले साल में चुनी जाएगी महिला मेयर

एमसीडी की सरकार का कार्यकाल 5 साल का होता है। इन 5 सालों में पहले साल किसी महिला पार्षद को ही मेयर बनाया जा सकता है। ये एक तरह का रिजर्वेशन है। मालूम हो कि तीसरे साल किसी अनुसूचित जाति का पार्षद मेयर बनाया जाएगा। यानी पहले और तीसरे साल के लिए मेयर के चुनाव में रिजर्वेशन है।

नतीजे के बाद साफ होगी तस्वीर

एमसीडी चुनाव के नतीजे 7 दिसंबर को आएंगे। एमसीडी के चुनाव 4 दिसंबर को हुए थे। दिल्ली के कुल 50.48% वोटरों ने वोटिंग की थी। एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी की शानदार जीत दिख रही है। राजनीतिक पंडितों का यह अनुमान है कि AAP निर्मला देवी को मेयर बना सकती है। सनद रहे कि दिल्ली नगर निगम एक्ट के अनुसार, पहले साल में मेयर किसी महिला को ही बनाया जाएगा। निर्मला देवी AAP के महिला इकाई की प्रदेश संयोजक हैं। इसके अलावा AAP नेता शालिनी सिंह भी मेयर बनाई जा सकती हैं। तस्वीर नतीजे आने के बाद और साफ हो सकेगी।

Continue Reading

Tech

एक दिन 'महंगाई-महंगाई' चिल्लाएंगे, राहुल गांधी के सामने 'मोदी-मोदी' नारे पर कन्हैया

Published

on

By



कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार ने महंगाई और बेरोजगारी को लेकर केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा और कहा कि 'मोदी-मोदी' का नारा लगाने वाले 'महंगाई-महंगाई चिल्लाएंगे।

Continue Reading

Tech

Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra second day in Rajasthan: Rahul Gandhi put his hand on the shoulder of Sachin Pilot

Published

on

By


ऐप पर पढ़ें

 Rahul Gandhi Bharat Jodo Yatra second Day In Rajasthan :राजस्थान में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का आज दूसरा दिन है। झालावाड़ शहर के खेल संकुल से आज दूसरे दिन राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा फिर से शुरू हुई। जिसमें सीएम अशोक गहलोत, पीसीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सचिन पायलट समेत कई मंत्री भी शामिल हैं। यात्रा के दूसरे दिन राहुल गांधी की सचि पायलट के साथ नजदीकी चर्चा में रही। यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने पायलट के कंधे पर हाथ रखकर सियासी संकेत दिए है। यात्रा में सीएम गहलोत भी साथ चल रहे थे, लेकिन राहुल गांधी पायलट से ज्यादा बात करते हुए दिखाई दिए। पायलट समर्थक राहुल गांधी के कंधे पर हाथ रखने वाली फोटो सोशल मीडिया में जमकर शेयर कर रहे हैं। 

आज कोटा में प्रवेश कर जाएगी यात्रा 

बता दें, आज झालरापाटन के बाद राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा कोटा में प्रवेश कर जाएगी। बता दें, कोटा आऱएसएस की नर्सरी माना जाता है। ऐसा कहा जाता है लाल कृष्ण आडवाणी की अटल बिहारी वाजपेयी से पहली मुलाकात कोटा रेलवे स्टेशन पर हुई थी। कोटा के सांसद ओम  बिरला लोकसभा अध्यक्ष है।  इसके बाद बूंदी, टोंक, सवाईमाधोपुर, दौसा और अलवर होते हुए यात्रा राजस्थान ने निकल जाएगी और हरियाणा में प्रवेश करेगी। राहुल गांधी की अलवर के मालाखेड़ा में बड़ी जनसभा होगी। कांग्रेस महासचिव भंवर जितेंद्र खुद जनसभा की सभी तैयारियों को देख रहे हैं। अलवर के पूर्व सांसद भंवर जितेंद्र सिंह राहुल गांधी के करीबी नेताओं में माने जाते हैं। 

पायलट से नजदीकी इसलिए 

राहुल गांधी की यात्रा जिन 18 विधानसभाओं से होकर निकलेगी उनमें 12 पर कांग्रेस और 6 पर बीजेपी का कब्जा है। ज्यादातर सीटें गुर्जर और मीणा बहुल हैं। इन इलाकों में सचिन पायलट का दबदबा ज्यादा है। ऐसे में राहुल गांधी की सीएम गहलोत के साथ-साथ पायलट के साथ नजदीकी यात्रा के लिए फायदेमंद होगी। गुर्जर और मीन वोटर्स परंपरागत तौर पर कांग्रेस के वोट माने जाते हैं। सचिन पायलट का गुर्जरों में अच्छा खासा प्रभाव है। केसी वेणुगोपाल के सुलह के फार्मूले के बाद अब गहलोत और पायलट में तल्खी दिखाई नहीं दे रहे हैं। दोनों ही नेताओं के समर्थक भी चुप्पी साधे हुए है। पायलट समर्थकों की तरफ से बयानबाजी नहीं हो रही है। सियासी सीजफायर के बाद बयानबाजी पर ब्रेक लग गया है। 

Continue Reading

Trending

Copyright © 2022 All Right Reserved by AchookSamachar. Design & Developed by WebsiteWaleBhaiya